• Breaking News

    .

    .

    Monday, 6 November 2017

    पैराडाइज पेपर्स में शामिल भारतीय कंपनियों के खिलाफ होगी जांच, सेबी ने किया ऐलान

    पैराडाइज पेपर्स में 714 भारतीय कंपनियों और शख्सियतों का नाम आने के बाद सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (सेबी) ने सोमवार को कहा है कि इस मामले में वह कड़े से कड़ा कदम उठाएगा। विजय माल्या सहित जिन लोगों और सूचीबद्ध कंपनियों के नाम उजागर किए गए हैं, उनके खिलाफ विदेश में कंपनी खोलकर फंड का हेरफेर करने कॉरपोरेट गवर्नेंस के नियमों के उल्लंघन की जांच की जाएगी।

    सेबी के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि माल्या की कई कंपनियों के खिलाफ पहले से जांच जारी है। सेबी के अलावा दूसरी एजेंसियां भी इस काम में जुटी हैं लेकिन अगर पैराडाइस पेपर्स में कोई नई जानकारी सामने आती है तो उसे भी जांच के दायरे में शामिल किया जाएगा।
    दुनिया भर के अमीर और ताकतवर लोग अपने देश में कमाई दौलत का निवेश टैक्स हैवन देशों में करते हैं। इस काम में अंतरराष्ट्रीय लॉ फर्में उनकी मदद करती हैं। बरमुडा की एपलबाई और सिंगापुर की एशियासिटी भी ऐसी ही दो लॉ फर्में हैं, जिनके जरिए लीक हुए दस्तावेजों ने तलहका मचा रहा रखा है। 

    इन दस्तावेजों को ही पैराडाइज पेपर्स के नाम से जाना जाता है। इन दस्तावेजों को लीक कराने में इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (आईसीआईजे) की उल्लेखनीय भूमिका है। 

    आईसीआईजे के अनुसार पैराडाइज पेपर्स में 182 देशों की कंपनियों और व्यक्तियों से संबंधित 1.34 करोड़ दस्तावेज लीक किए गए हैं। नामों की संख्या के हिसाब से इन देशों में भारत का 19वां स्थान है। पत्रकारों की इसी अंतरराष्ट्रीय संस्था ने पनामा पेपर्स को भी उजागर किया था।

    भारतीय कंपनियां और शख्सियतें

    अधिकारियों के अनुसार किसी टैक्स हैवन (जहां टैक्स नहीं वसूली जाता) देश में महज कंपनी खोलना कोई अपराध नहीं है लेकिन उनके बारे में जानकारी छुपाना या उनके जरिए देश से फंड बाहर भेजना गैरकानूनी है। हालांकि इसे साबित करने से पहले सेबी को गहराई से जांच करनी होगी।

    - शराब कारोबारी विजय माल्या
    - नागर विमानन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा
    - भाजपा के राज्यसभा सदस्य आरके सिन्हा
    - अभिनेता अमिताभ बच्चन
    - अभिनेता संजय दत्त की पत्नी मान्यता
    - जिंदल स्टील
    - वीडियोकॉन समूह
    - अपोलो टायर्स
    - जीएमआर समूह
    - सन टीवी नेटवर्क
    - हैवल्स
    - हिंदूजा

    विदेशी शख्सियतें
    - ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय
    - पाकिस्तान के पूर्व पीएम शौकत अजीज
    - अमेरिकी वाणिज्य मंत्री विल्बर रॉस
    - कनाडा के पीएम के वरिष्ठ सलाहकार 

    कंपनियों के शेयर गिरे
    इस खुलासे में शामिल जिंदल स्टील एंड पावर के शेयरों में 2.32 फीसदी, एस्सार शिपिंग में दो फीसदी, वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज में 1.82 फीसदी, सन टीवी नेटवर्क में 1.74 फीसदी, अपोलो टायर्स में 0.88 फीसदी और जीएमआर इन्फ्रस्ट्रक्चर्स के शेयरों में 1.57 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई।

    सबसे पहले पैराडाइज पेपर्स में शामिल कंपनियों से उनसे जुड़ी विदेशी कंपनियों के बारे में जानकारी मांगी जाएगी। इसके बाद उन कंपनियों की वार्षिक रिपोर्ट एवं अन्य दस्तावेजों में उनके द्वारा की गई घोषणाओं को विदेशी कंपनियों की जानकारी से मिलान किया जाएगा। इस मामले में दूसरी नियामक संस्थाओं और सरकारी एजेंसियों की भी मदद ली जाएगी। ऐसे मामलों में एक से ज्यादा एजेंसियों को शामिल कर जांच को आगे बढ़ाने के मुद्दे पर भी विचार किया जाएगा।

    क्या है पैराडाइज पेपर्स

    No comments:

    Post a Comment

    Fashion

    Beauty

    Travel